सोमवार, अप्रैल 06, 2020

कम्युनिस्ट विश्वासघात

भारतीय इतिहास की कुछ अंतर्दृष्टियां / मीनाक्षी जैन – 3

मीनाक्षी जैन: और कई भारत की सराहना करते थे | राजीव मल्होत्रा: हमारे पास त्रुटिपूर्ण छवि है कि ईस्ट इंडिया कंपनी ईसाई धर्मप्रचार के लिए थी | ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे लोगों ने

भारतीय अर्थव्यवस्था

चीन और भारत / जीवंत बहस – प्रोफेसर वैद्यनाथन

राजीव: नमस्ते! मेरे साथ हैं, प्रोफेसर वैद्यनाथन। आपका एक बार फिर स्वागत है। तो आइए, चीन की चर्चा करें। भारत के लोग अपने आप की तुलना पश्चिम के साथ करते हैं और कहते हैं कि कुछ मामलों में हम उनसे बेहतर हैं। पर असली कसौटी चीन होना चाहिए, जो हमारे पड़ोस में है। वह हमारे […]

यूरोप में संकट – प्रोफेसर वैद्यनाथन

राजीव: नमस्ते। मेरे साथ हैं, प्रोफेसर वैद्यनाथन। हम एक और रोचक वीडियो करेंगे। यूरोप में आपके अनुसार क्या चल रहा है? उसका विश्व पर और भारत पर क्या असर पड़ेगा। वैद्यनाथन: पहले बुरी खबर। यूरोप युद्ध के कगार पर खड़ा है। अगले तीन से पाँच सालों में यूरोप में एक भयानक युद्ध छिड़ने वाला है। […]

स्वदेशी मुस्लिम

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 3

To Read Second Part, Click Here. वैटिकन एक संप्रभु राज्य भी है | यह संयुक्त राष्ट्र का सदस्य है | जब एक संप्रभु राज्य प्रतिनिधित्व करने के लिए किसी को नियुक्त करता है, तो यह एक दूतावास हो जाता है | यह कहना कि वे अल्पसंख्यक हैं और विशेषाधिकारों की मांग कर रहे हैं, इसके […]

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 2

To Read First Part, Click Here. मुद्दा यह है कि विरोधी गतिमान हैं | विघटनकारी शक्तियां सर्वदा कुछ नया कर रही हैं | आप यह नहीं कह सकते कि तेंदुलकर ने शतक बनाया है और अब हम आश्वस्त रह सकते हैं | आपको अपना काम करना है | उस समय जो किया गया था वो […]

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 1

मेरा शोध भारतीय महागाथा पर है | मैं सबसे पहले यह समझाना चाहता हूँ कि इसका क्या अर्थ है | यह केवल हमारी कहानी के बारे में नहीं है | यह एक लोकप्रिय शब्द है, परन्तु इसका एक तकनीकी अर्थ भी है | मैं पहली बार सार्वजनिक रूप से एक विशिष्ट अध्याय के बारे में […]

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 4,047 other subscribers

पुरालेख

Follow me on Twitter

%d bloggers like this: