रीसा लीला-१: वेंडी का बाल-परिलक्षण – 2

Read First Part of the Article Click Here. मैं आशा करता हूँ कि ये निबंध आरम्भ करेगा एक प्रतिपुष्टि कुंडली का भारतीय समाज को शिक्षित करने में, जो की रिसा के कार्य का विषय है, किन्तु जिसको अभी तक अँधेरे में रखा है , इस सन्दर्भ में, कि, क्या लिखा और कहा जा रहा है […]

Continue Reading

रीसा लीला-१: वेंडी का बाल-परिलक्षण – 1

“कुछ अमरीकीयों के अनुसार भागवत गीता एक अच्छी पुस्तक नहीं हैI महाभारत की पूरी पुस्तक में कृष्ण समस्त मानव जाती को विभिन्न प्रकार के प्राणघात एवं आत्म – नाश व्यवहारों के लिए जैसे, युद्ध, के लिए प्रेरित करते हैंI गीता एक असत्य पुस्तक है” — वेंडी डोनिगर, इतिहास एवं धर्म की महाध्यापक, शिकागो महाविद्यालय, ने […]

Continue Reading

वन और रेगिस्तान की सभ्यताएँ

मैंने अपनी पुस्तक, ‘विभिन्नता: पश्चात्य सार्वभौमिकता को भारतीय चुनौती’, में चर्चा की है कि कैसे “अव्यवस्था” और “व्यवस्था” के बीच संतुलन एवं साम्यावस्था लाने का एक निरंतर प्रयास (न कि अव्यवस्था का संपूर्ण उन्मूलन) भारतीय दर्शन, कला, पाक-प्रणाली, संगीत एवं काम-विद्या को

Continue Reading