विज्ञान के परे ज्ञान

राजीव मल्होत्रा: आइए, परम सत्य, सर्वोच्च व्यक्ति – ईश्वर और किस प्रकार वे विभिन्न भगवानों जैसे श्री कृष्ण, शिव, देवी आदि से संबंधित हैं, के साथ आरम्भ करते हैं | तब हम इसे वहां से आगे ले जा सकते हैं | मधु पंडित दास: किसी विशिष्ट उत्तर में जाने के पहले, मैं एक बहुत ही […]

Continue Reading

आरएसएस का वैश्वीकरण / मोहन भागवत

राजीव मल्होत्रा: संघ एक बड़ी, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित संस्था है | विश्व जानता है कि संघ कुछ महत्वपूर्ण है, परन्तु उनके पास उचित समझ नहीं है | कुछ रहस्यपूर्ण, दोषपूर्ण सूचना और संदेह है | आज संघ आपके नेतृत्व में गतिशील रूप से परिवर्तित हो रहा है | जिन वरिष्ठ लोगों से मैं मिला […]

Continue Reading

देवदत्त पट्टनायक को खुली चुनौती / नित्यानंद मिश्रा

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! नित्यानंद मिश्रा: नमस्ते ! राजीव मल्होत्रा: नित्यानंद मिश्रा ने देवदत्त पट्टनायक की आलोचना के लिए जो एपिसोड किया, उसे बहुत बड़ी प्रतिक्रिया मिली और उसने बहुत उत्साह उत्पन्न किया | कुछ लोगों ने कुछ विषय उठाए, जिन्हें हमें संबोधित करना चाहिए | आज का उद्देश्य कुछ आलोचकों को उत्तर देना है […]

Continue Reading

भारत विखंडन / मूल्यांकन – प्रोफेसर वैद्यनाथन — 2

To Read First Part, Click Here. वैद्यनाथन: अक्सर कहा जाता है कि लोग मूर्ख होते हैं। पर लोग मूर्ख नहीं होते हैं, सरकार बेहरी होती है। वे स्थिति की गंभीरता को समझ नहीं रहे हैं। हम भारत-तोड़ो ताकतों के मामले में वाकई विस्फोटक स्थिति का सामना कर रहे हैं। विश्व स्तर पर काम करने वाला […]

Continue Reading

भारत विखंडन / मूल्यांकन – प्रोफेसर वैद्यनाथन — 1

राजीव: नमस्ते! मैं एक बार फिर प्रोफेसर वैद्यनाथन के साथ हूँ। मैं भारत-तोड़ो ताकतों के बारे में बात करना चाहूँगा। कुछ सात साल पहले मैंने एक पुस्तक लिखी थी। वैद्यनाथन: हाँ। राजीव: लेकिन मैंने उस पर काम करना 20 साल पहले ही कर दिया था। मैंने भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलूर में एक व्याख्यान दिया था, […]

Continue Reading

चीन और भारत / जीवंत बहस – प्रोफेसर वैद्यनाथन

राजीव: नमस्ते! मेरे साथ हैं, प्रोफेसर वैद्यनाथन। आपका एक बार फिर स्वागत है। तो आइए, चीन की चर्चा करें। भारत के लोग अपने आप की तुलना पश्चिम के साथ करते हैं और कहते हैं कि कुछ मामलों में हम उनसे बेहतर हैं। पर असली कसौटी चीन होना चाहिए, जो हमारे पड़ोस में है। वह हमारे […]

Continue Reading

यूरोप में संकट – प्रोफेसर वैद्यनाथन

राजीव: नमस्ते। मेरे साथ हैं, प्रोफेसर वैद्यनाथन। हम एक और रोचक वीडियो करेंगे। यूरोप में आपके अनुसार क्या चल रहा है? उसका विश्व पर और भारत पर क्या असर पड़ेगा। वैद्यनाथन: पहले बुरी खबर। यूरोप युद्ध के कगार पर खड़ा है। अगले तीन से पाँच सालों में यूरोप में एक भयानक युद्ध छिड़ने वाला है। […]

Continue Reading

विमुद्रीकरण, जीएसटी और काला धन – प्रोफेसर वैद्यनाथन

राजीव: नमस्ते! एक बार फिर हमारे साथ हैं, डॉ. वैद्यनाथन जी। आइए उनसे प्राप्त करते हैं विवादास्पद नोटबंदी पहल के बारे में उनकी अंतर्दृष्टि। वैद्यनाथन: हाँ, नोटबंदी के बारे में बहुत कुछ कहा गया है। इस विषय पर हज़ारों पृष्ठ लिखे गए हैं, और कई लीटर स्याही खर्च की गई है। टाइप करने में। यह […]

Continue Reading

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 3

To Read Second Part, Click Here. वैटिकन एक संप्रभु राज्य भी है | यह संयुक्त राष्ट्र का सदस्य है | जब एक संप्रभु राज्य प्रतिनिधित्व करने के लिए किसी को नियुक्त करता है, तो यह एक दूतावास हो जाता है | यह कहना कि वे अल्पसंख्यक हैं और विशेषाधिकारों की मांग कर रहे हैं, इसके […]

Continue Reading

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 2

To Read First Part, Click Here. मुद्दा यह है कि विरोधी गतिमान हैं | विघटनकारी शक्तियां सर्वदा कुछ नया कर रही हैं | आप यह नहीं कह सकते कि तेंदुलकर ने शतक बनाया है और अब हम आश्वस्त रह सकते हैं | आपको अपना काम करना है | उस समय जो किया गया था वो […]

Continue Reading