मुस्लिम और भारत की महागाथा – 2

मुद्दा यह है कि विरोधी गतिमान हैं | विघटनकारी शक्तियां सर्वदा कुछ नया कर रही हैं | आप यह नहीं कह सकते कि तेंदुलकर ने शतक बनाया है और अब हम आश्वस्त रह सकते हैं | आपको अपना काम करना है | उस समय जो किया गया था वो उस समय अच्छा था | यहां […]

Continue Reading

मुस्लिम और भारत की महागाथा – 1

मेरा शोध भारतीय महागाथा पर है | मैं सबसे पहले यह समझाना चाहता हूँ कि इसका क्या अर्थ है | यह केवल हमारी कहानी के बारे में नहीं है | यह एक लोकप्रिय शब्द है, परन्तु इसका एक तकनीकी अर्थ भी है | मैं पहली बार सार्वजनिक रूप से एक विशिष्ट अध्याय के बारे में […]

Continue Reading

भारतीय इतिहास की कुछ अंतर्दृष्टियां / मीनाक्षी जैन – 3

To Read Second Part, Click Here. मीनाक्षी जैन: और कई भारत की सराहना करते थे | राजीव मल्होत्रा: हमारे पास त्रुटिपूर्ण छवि है कि ईस्ट इंडिया कंपनी ईसाई धर्मप्रचार के लिए थी | ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे लोगों ने अच्छे से अध्ययन नहीं किया है और वे मूर्ख प्रतीत होते हैं जब ऐसे वक्तव्य […]

Continue Reading

भारतीय इतिहास की कुछ अंतर्दृष्टियां / मीनाक्षी जैन – 2

To Read First Part, Click Here. मीनाक्षी जैन: अधिकाँश मुस्लिम हिंदुओं, को उनके लिए इसके महत्व के कारण, यह स्थल सौंप देना चाहते थे | परन्तु वे बताते हैं कि वामपंथी इतिहासकारों के एक समूह ने उन्हें विश्वास दिलाया कि ऐसा नहीं करें | राजीव मल्होत्रा: अर्थात् ये वामपंथी हैं जिन्होंने हिंदुओं और मुसलमानों के […]

Continue Reading

भारतीय इतिहास की कुछ अंतर्दृष्टियां / मीनाक्षी जैन – 1

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते, मेरे साथ आज एक बहुत ही विशिष्ट अतिथि हैं, मीनाक्षी जैन, जिन्हें मैं दो दशकों से जानता हूँ | हम बहुत लंबे समय पश्चात भेंट कर रहे हैं | वे भारतीय इतिहास और राजनीति पर सबसे अच्छे विद्वानों में से एक हैं | हम दोनों ने भारतीय वामपंथ के काम की आलोचना […]

Continue Reading

हिन्दू गुरुओं का उत्पीड़न / सुरेंद्रनाथ चंद्रनाथ — 2

To Read First Part, Click Here. राजीव मल्होत्रा: क्योंकि यह एक जानकारी है जिसे हमें छोड़ना नहीं चाहिए | वे केवल एक औसत दलित कार्यकर्ता नहीं हैं | हम ऐसे दलित कार्यकर्ता चाहते हैं जो वंचित लोगों की सहायता करें | परन्तु वे इसे एक ईसाई धर्मप्रचारक के रूप में कर रहे हैं जो विदेशों […]

Continue Reading

हिन्दू गुरुओं का उत्पीड़न / सुरेंद्रनाथ चंद्रनाथ — 1

नमस्ते | मैं अपने लोगों को जागृत करने के लिए व्यवस्थित रूप से एक महत्वपूर्ण विषय के बारे में बात करना चाहूंगा | हमारे प्रमुख गुरुओं पर उनके द्वारा आक्रमण किया जा रहा है जो नहीं चाहते हैं कि वे जो भी कर रहे हैं वह करें | विशेष रूप से वैसे गुरु जो दलितों, […]

Continue Reading