धर्म-परिवर्तन का लक्ष्य – 1

मानवाधिकार एवं अन्य पक्ष अवैध धन संपत्ति को वैध करने में न्याय विरुद्ध प्रणाली द्वारा, संपत्ति की सरणि का निर्माण करके, एक जटिल लेन-देन के जाल द्वारा किया जाता है, जिससे कि, धन के चरित्र को विस्तार से संदिग्धार्थ बनाया जा सके, और क्रमशः उसको न्याय पूर्ण व्ययसाय गतिविधियों द्वारा ले जाया जा सके जो […]

Continue Reading

कैसे ‘गांधार’ बना ‘कांधार’ – 3

Translation Credit: Vandana Mishra. To Read Second Part, Click Here. भारत पर इस्लामिक छात्रवृत्ति: अरबी, तुर्की, फ़ारसी आक्रमणकारियों ने अपने इतिहासकारों को भारत को परास्त करने की महान कार्यसिद्धि की विजय गाथा के प्रलेख के लिए आदेश दिया। इन में से कई इतिहासकारों को अंततः भारत भूमि से प्रेम हो गया और उन्होंने अत्यंत ही […]

Continue Reading

कैसे ‘गांधार’ बना ‘कांधार’ – 2

Translation Credit: Vandana Mishra. To Read 1st Part, Click Here. जातिसंहार भाग २: ग़ज़नी का महमूद ग़ज़नविद राजवंश का स्थापक पूर्वी तुर्की दास था, जिसको ईरान के मुसलमान ग़ज़नी (कांधार के निकट एक नगर) का प्रबंधकर्ता मानते थे I उसके पुत्र महमूद ने (९९८-१०३० वर्षों तक) अपने साम्राज्य को भारत में विस्तृत किया I एक […]

Continue Reading

कैसे ‘गांधार’ बना ‘कांधार’ – 1

Translation Credit: Vandana Mishra. अफ़ग़ानिस्तान के महाकाव्य इतिहास का आरम्भ होता है, जब वह पुरातन भारत का, एक महत्वपूर्ण क्षेत्र हुआ करता था, जिसका नाम ‘गांधार’ था I उसके कई नगरों में से जो सर्वाधिक बहुप्रचलित नगर हुआ करता था, वह वर्तमान युग का ‘कांधार’ था, जो तालिबान द्वारा कलंकित है I उस नगर का […]

Continue Reading

पारंपरिक ज्ञान प्रणाली – 3

Translation Credit: – Vandana Mishra To Read Second Part, Click Here. ज्ञान प्रेषक की भाँती शास्रविधियाँ: उत्तराँचल के दूरवर्ती क्षेत्रों के ग्रामीणवासी एक कार्यक्रम आयोजित करते हैं जिसका नाम ‘जागर्स’ होता है, जिसमें जागरिए भेजते हैं डंगरिए को एक प्रकार के तन्मयावस्था में I डंगरिया तत्पश्चात आपकी सहायता करता है समस्या सुलझाने में, रोगों का […]

Continue Reading

पारंपरिक ज्ञान प्रणाली – 2

Translation Credit: – Vandana Mishra To Read First Part. Click here. विश्वीय विज्ञान में भारतीय योगदान सिविल अभियांत्रिकी: इंडस-सरस्वती सभ्यता विश्व की सर्व प्रथम सभ्यता थी जिसमें योजनाबद्ध नगर निर्माण किया गया था, भूमिगत जलनिकासी, सिविल आरोग्यशास्र,  द्रवचालित अभियांत्रिकी, एवं वातानुकूलित वास्तुकी इत्यादि वद्यमान थे I भट्टी में पकाये हुए ईंट सर्वप्रथम भारत में ही […]

Continue Reading

पारंपरिक ज्ञान प्रणाली – 1

Translation Credit: – Vandana Mishra. ये अब मान्य हो रहा है कि, पश्चिमी मापदंड ही एक मात्र निर्देश चिह्न नहीं है जिनसे अन्य सांस्कृतिक ज्ञान का मूल्यांकन किया जाए I वैसे तो ‘परंपरिक’ शब्द कदाचित संकेतार्थ रूप से ‘आधुनकता-विरुद्ध’ होने का संकेत देता है, एक ‘अविकसित’ या ‘अप्रचलित’ प्रसंग, किन्तु कई पारम्परिक विज्ञानं एवं प्रौद्योगिकी […]

Continue Reading

भेंटवार्ता: राजीव मल्होत्रा से इस विषय पर कि, उनका कार्य हिन्दू परम्परों के अनुरूप कैसे है – 2

Translation Credit: – Vandana Mishra To Read First Part of Article, Click Here. किंचित तो आपके ही आलोचक घोषणा करते हैं की, आप ही स्वयं “यू -टर्न” कर रहे हैं, कई ईसाईयों और अन्य अन्तर- विश्वासी वार्तालाप की कार्य-प्रणालियों में व्यस्त हो कर I क्या ऐसा करते हुए आप ईसाईयों को एक अन्य ही उपाय […]

Continue Reading

भेंटवार्ता: राजीव मल्होत्रा से इस विषय पर कि, उनका कार्य हिन्दू परम्परों के अनुरूप कैसे है – 1

Translation Credit: – Vandana Mishra. श्री मल्होत्रा, आपके क्या दृष्टिकोण हैं गुरुओं, आचार्यों, स्वामियों और अन्य नेताओं के विषय में जो सांप्रदायिक परम्परों के हैं? आप किस प्रकार से उनकी भूमिका को इस आधुनिक जगत में देखते हैं? जब आप हिन्दू धर्म का प्रतिनिधत्व करते हैं सार्वजनिक गोष्‍ठी में, तो क्या आप ये परिकल्पना करते […]

Continue Reading

कहाँ हैं वे पाँडव जो हिन्दू धर्म का नेतृत्व कर सकें?

Translation Credit: Vandana Mishra. बौद्धिक कुरुक्षेत्र के स्नदर्भ में हिंदुवों के पुर्नजागरण आंदोलन को अपनी क्रीड़ा की नीतियों को सुधारना होगा I दुर्भाग्यवश, हम में सामथर्यवान विद्द्वानों और संस्थापक प्रक्रियाओं की अपूर्णता है I हिन्दुओं का प्रतिनिधित्व सर्वदा ही निम्नवर्गीय स्वरों में किया जाता है I भावनात्मक आडम्बर एवं राजनैतिक प्रतिपालन ने इसके प्राण खींच […]

Continue Reading