मुस्लिम योग –1

योग के प्रति प्रतिक्रियाओं में बहुत व्यापकता है | कुछ इसे प्रतिबंधित करना चाहते हैं जबकि कुछ इसका इस्लामीकरण करना चाहते हैं | कुरानी योग में, कुरान का जप किया जाता है | अन्य रूपों में, वैसे तो मंत्रोच्चारण सम्मिलित नहीं है, पर कई तत्त्व हटा दिए जाते हैं | जैसे कि सूर्य नमस्कार जिसका […]

Continue Reading

अगले 5 वर्ष / डॉ राजीव कुमार, नीति आयोग

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मैं डॉ राजीव कुमार के साथ हूँ | अब हम भविष्य की दृष्टि के बारे में बात करने जा रहे हैं | पिछले कुछ वर्षों में बहुत कुछ सिद्ध किया गया है | अगले 5 वर्षों के लिए आपकी दृष्टि क्या है ? राजीव कुमार: प्रधानमंत्री ने इसका सर्वश्रेष्ठ वर्णन किया […]

Continue Reading

मुल्ला तानाशाह

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मेरी आज की अतिथि हैं – अंबर ज़ैदी  | मैं उनसे कुछ दिन पहले जयपुर में मिला | वहाँ सामाजिक माध्यम पर विभिन्न विषयों पर एक समारोह हो रहा था | वे एक पैनल में भारतीय मुसलमानों का प्रतिनिधित्व कर रही थीं, और बड़े ही आत्मविश्वास के साथ, आधुनिक, उदारवादी, उन्मुक्त […]

Continue Reading

आर एस एस/मोहन भागवत से रहस्य हटाना

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारत की और विश्व की भी एक महत्वपूर्ण संस्था है | पर उसकी छवि बहुत विवादास्पद और रहस्यों से घिरी रही है | उसे निकट से जानना आवश्यक है | मेरी छवि एक निष्पक्ष और वस्तुपरक प्रेक्षक की है, संभवतः इस कारण से मुझे संघ के सर्वोच्च नेताओं से सीधे मिलने का […]

Continue Reading

बुद्धिजीवी और आरएसएस/मोहन भागवत

राजीव मल्होत्रा: मैं दो विषयों पर आपके विचार जानना चाहूँगा | एक है, हिंदुओं को अधिक बौद्धिक बनाना | और दूसरा है, बौद्धिकों को अधिक हिंदू बनाना | पहली स्थिति के लिए हमें खुला मन रखने वाले बौद्धिकों को ढूँढ़ना होगा | कई अच्छे हिंदू संघ के बारे में दोषपूर्ण धारणा रखते हैं | मेरे […]

Continue Reading

संस्कृति और आर्थिक सशक्तीकरण – मोहनदास पाई के साथ चर्चा

राजीव मल्होत्रा: संस्कृति और अर्थव्यवस्था परस्पर संबंधित हैं | क्या आपको लगता है कि वैश्वीकरण, संयोजकता (कनेक्टिविटी), पश्चिमीकरण, निगमीकरण और सेंसेक्स केंद्रित अर्थव्यवस्था ने हमारी संस्कृति पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है ? मोहनदास पाई: हमारी संस्कृति पर इसका प्रभाव इस सीमा तक है कि हम मानते हैं कि पश्चिम हमसे श्रेष्ठतर है | क्यों ? […]

Continue Reading

युवाओं के मुद्दे / मोहनदास पाई

राजीव मल्होत्रा: मेरे साथ आज एक महत्वपूर्ण अतिथि हैं,  बेंगलुरु से सार्वजनिक बौद्धिक, मोहनदास पाई | नमस्ते मोहनदास जी ! मोहनदास पाई: नमस्ते ! राजीव मल्होत्रा: आपका यहाँ होना हर्ष की बात है ! मोहनदास पाई: धन्यवाद ! राजीव मल्होत्रा: आपके साथ विचारों पर चर्चा करना बहुत अच्छा लगता है | मोहन एक सफल कॉर्पोरेट […]

Continue Reading

भारत का त्रिआयामी विकास / डॉ राजीव कुमार

राजीव मल्होत्रा: चीन के बनिस्पत भारत के बारे में आप कैसा अनुभव करते हैं ? क्योंकि विश्व इस रूप में इसे देखता है | चीन को कई दशकों की आरंभिक बढ़त मिली हुई थी | उन्होंने बड़ी मात्रा में धन इकट्ठा कर लिया | दोनों – वैध साधनों और कभी-कभी अन्य माध्यमों से नई तकनीकें […]

Continue Reading

नीति आयोग बनाम पुराना योजना आयोग / डॉ राजीव कुमार

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मैं राष्ट्रीय नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार के साथ हूँ | अपने व्यस्त कार्यक्रम में से कुछ समय निकालने के लिए धन्यवाद | राजीव कुमार: बहुत बहुत धन्यवाद समनाम | राजीव मल्होत्रा: हाँ, हम दोनों राजीव हैं | हम अच्छे लोग हैं | राजीव कुमार: हाँ | इसका अर्थ […]

Continue Reading

“मैं स्वाभिमानी हिन्दू क्यों हूँ ?” – सूरीनाम के उपराष्ट्रपति

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मैं सुरीनाम के उपराष्ट्रपति, अश्विन अधीनजी के साथ हूँ | नमस्कार | अश्विन अधीन: नमस्कार | राजीव मल्होत्रा: एक अद्भुत स्थान से एक साथी हिंदू | मैंने आपके देश के बारे में बहुत कुछ सुना है | मेरे वैश्विक दर्शकों के लिए, कृपया हमें अपने हिन्दू धर्म की कहानी और अपने […]

Continue Reading