मुस्लिम योग –2

Read Part – 1 of the Article Here. अगली क्लिप में वे स्पष्ट रूप से दिखाती हैं कि मुस्लिमों को सुविधा पहुंचाने के लिए वे किस प्रकार योग को पचाने (डाइजेशन) का काम कर रही हैं इस प्रकार के एक इस्लामी या धर्मनिरपेक्ष या आध्यात्मिक परन्तु धार्मिक नहीं योग के माध्यम से | आईये देखें […]

Continue Reading

मुस्लिम योग –1

योग के प्रति प्रतिक्रियाओं में बहुत व्यापकता है | कुछ इसे प्रतिबंधित करना चाहते हैं जबकि कुछ इसका इस्लामीकरण करना चाहते हैं | कुरानी योग में, कुरान का जप किया जाता है | अन्य रूपों में, वैसे तो मंत्रोच्चारण सम्मिलित नहीं है, पर कई तत्त्व हटा दिए जाते हैं | जैसे कि सूर्य नमस्कार जिसका […]

Continue Reading

अगले 5 वर्ष / डॉ राजीव कुमार, नीति आयोग

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मैं डॉ राजीव कुमार के साथ हूँ | अब हम भविष्य की दृष्टि के बारे में बात करने जा रहे हैं | पिछले कुछ वर्षों में बहुत कुछ सिद्ध किया गया है | अगले 5 वर्षों के लिए आपकी दृष्टि क्या है ? राजीव कुमार: प्रधानमंत्री ने इसका सर्वश्रेष्ठ वर्णन किया […]

Continue Reading

मुल्ला तानाशाह

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मेरी आज की अतिथि हैं – अंबर ज़ैदी  | मैं उनसे कुछ दिन पहले जयपुर में मिला | वहाँ सामाजिक माध्यम पर विभिन्न विषयों पर एक समारोह हो रहा था | वे एक पैनल में भारतीय मुसलमानों का प्रतिनिधित्व कर रही थीं, और बड़े ही आत्मविश्वास के साथ, आधुनिक, उदारवादी, उन्मुक्त […]

Continue Reading

आर एस एस/मोहन भागवत से रहस्य हटाना

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारत की और विश्व की भी एक महत्वपूर्ण संस्था है | पर उसकी छवि बहुत विवादास्पद और रहस्यों से घिरी रही है | उसे निकट से जानना आवश्यक है | मेरी छवि एक निष्पक्ष और वस्तुपरक प्रेक्षक की है, संभवतः इस कारण से मुझे संघ के सर्वोच्च नेताओं से सीधे मिलने का […]

Continue Reading

बुद्धिजीवी और आरएसएस/मोहन भागवत

राजीव मल्होत्रा: मैं दो विषयों पर आपके विचार जानना चाहूँगा | एक है, हिंदुओं को अधिक बौद्धिक बनाना | और दूसरा है, बौद्धिकों को अधिक हिंदू बनाना | पहली स्थिति के लिए हमें खुला मन रखने वाले बौद्धिकों को ढूँढ़ना होगा | कई अच्छे हिंदू संघ के बारे में दोषपूर्ण धारणा रखते हैं | मेरे […]

Continue Reading

संस्कृति और आर्थिक सशक्तीकरण – मोहनदास पाई के साथ चर्चा

राजीव मल्होत्रा: संस्कृति और अर्थव्यवस्था परस्पर संबंधित हैं | क्या आपको लगता है कि वैश्वीकरण, संयोजकता (कनेक्टिविटी), पश्चिमीकरण, निगमीकरण और सेंसेक्स केंद्रित अर्थव्यवस्था ने हमारी संस्कृति पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है ? मोहनदास पाई: हमारी संस्कृति पर इसका प्रभाव इस सीमा तक है कि हम मानते हैं कि पश्चिम हमसे श्रेष्ठतर है | क्यों ? […]

Continue Reading

युवाओं के मुद्दे / मोहनदास पाई

राजीव मल्होत्रा: मेरे साथ आज एक महत्वपूर्ण अतिथि हैं,  बेंगलुरु से सार्वजनिक बौद्धिक, मोहनदास पाई | नमस्ते मोहनदास जी ! मोहनदास पाई: नमस्ते ! राजीव मल्होत्रा: आपका यहाँ होना हर्ष की बात है ! मोहनदास पाई: धन्यवाद ! राजीव मल्होत्रा: आपके साथ विचारों पर चर्चा करना बहुत अच्छा लगता है | मोहन एक सफल कॉर्पोरेट […]

Continue Reading

भारत का त्रिआयामी विकास / डॉ राजीव कुमार

राजीव मल्होत्रा: चीन के बनिस्पत भारत के बारे में आप कैसा अनुभव करते हैं ? क्योंकि विश्व इस रूप में इसे देखता है | चीन को कई दशकों की आरंभिक बढ़त मिली हुई थी | उन्होंने बड़ी मात्रा में धन इकट्ठा कर लिया | दोनों – वैध साधनों और कभी-कभी अन्य माध्यमों से नई तकनीकें […]

Continue Reading

नीति आयोग बनाम पुराना योजना आयोग / डॉ राजीव कुमार

राजीव मल्होत्रा: नमस्ते ! मैं राष्ट्रीय नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार के साथ हूँ | अपने व्यस्त कार्यक्रम में से कुछ समय निकालने के लिए धन्यवाद | राजीव कुमार: बहुत बहुत धन्यवाद समनाम | राजीव मल्होत्रा: हाँ, हम दोनों राजीव हैं | हम अच्छे लोग हैं | राजीव कुमार: हाँ | इसका अर्थ […]

Continue Reading